चिंगारी

15-02-2021

क्षितिज धूमिल सा दिखा
धुआँ उठा होगा कहीं
धधकती प्रचण्ड ज्वाला।
चिंगारी लगी होगी कहीं॥
 
लपट जो फैली हुई है
दिल के कोने का धुआँ
ज़ुल्म के ख़िलाफ़ उमड़े।
चिंगारी लगी होगी कहीं॥
  
एक से आरम्भ होकर
धुँए सा प्रसार इसका
विद्रोह की लपटें हैं फैली।
चिंगारी लगी होगी कहीं॥
 
तोड़ दीं लगाम ख़ुद से
एकजुट हुँकार भरकर
ललकार  है निर्भीक की।
चिंगारी लगी होगी कहीं॥
 
ज़ुल्म के ख़िलाफ़ उठकर
विरोध कर रहा डटकर
सहम गए ज़ालिम हुक्मरान।
चिंगारी लगी होगी कहीं॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें