छोड़ जाना होगा

01-03-2021

छोड़ जाना होगा

सौरभ मिश्रा

अंततः सब कुछ छोड़ जाना होगा
ये ढेर सारा प्यार
उनके लिए नफ़रत
ये सबसे पसंदीदा प्याला
ये क़लम
ये कलाम
ख़ुशनुमा सुबह
ये अलसाई हुई शाम
सब कुछ अंततः . . .
 
ये सब कुछ जो अपना सा लगता है
ये धड़कन 
ये साँस 
ये ख़ुशबू
ये एहसास
स्वाद,
उनकी याद
कुछ और पल पा लेने की फ़रियाद
अंततः सब कुछ . . .
चाहते या न चाहते हुए भी
सब कुछ छोड़ जाना होगा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें