चेहरे तो बयां कर ही जाया करते हैं

15-03-2021

चेहरे तो बयां कर ही जाया करते हैं

प्रवीण कुमार शर्मा 

दुनिया में होते हैं कई चेहरे
कुछ धुँधले तो कुछ उजले
किसी ने धारण किया है  भोलापन
तो किसी ने छोड़ा है सादापन
मुखौटा पहन कर हम इन्हें छुपाते हैं
पर मुखौटों में भी  होते हैं आँखों के झरोखे
ये हम भूल जाते हैं
दिल की सच्चाई के झोंके
इन झरोखों से झाँक ही जाया करते हैं
लाख छुपालो सच्चाई;
चेहरे तो बयां कर ही जाया करते हैं |
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें