ब्रूउट्स यू टू

23-01-2016

ब्रूउट्स यू टू

डॉ. मनीष कुमार मिश्रा

थोड़े आँसू
थोड़े सपने
और ढेर से सवालों के साथ
तेरी नीमकश निगाहों में जब देखता हूँ
बहुत तड़पता हूँ
 
इसपर तेरा हल्के से मुस्कुराना
मुझे अंदर-ही-अंदर सालता है
तेरा ख़ामोशी भरा इंतक़ाम
मेरे झूठे ,बनावटी
और मतलबी चरित्र के आवरण को
मेरे अंदर ही खोल के रख देता है
 
मैं सचमुच कभी भी नहीं था
तुम्हारे उतने सच्चे प्यार के क़ाबिल
जितने के बारे में मैंने सिर्फ़
फ़रिश्तों और परियों की कहानियों में पढ़ा था
 
मैं तुम्हें सिवा धोखे के
नहीं दे पाया कुछ भी
और तुम देती रही
हर बार माफ़ी क्योंकि
तुम प्यार करना जानती थी
 
मैं बस सिमटा रहा अपने तक
और तुम
ख़ुद को समेटती रही
मेरे लिए
कभी कुछ भी नहीं माँगा तुमने
 
सिवाय मेरी हो जाने की
हसरत के
 
याद है वो दिन भी जब
तुमने मुझसे दूर जाते हुए
नम आँखों और मुस्कुराते लबों के साथ
कागज़ का एक टुकड़ा
चुपके से पकड़ाया
जिसमें लिखा था- "ब्रूउट्स यू टू?''
 
उसने जो लिखा था वो,
शेक्स्पीअर के नाटक की
एक पंक्ति मात्र थी लेकिन ,
मैं बता नहीं सकता क़ि
वह मेरे लिए
कितना मुश्किल सवाल था
आज भी वो एक पंक्ति
कंपा देती है पूरा जिस्म
रुला देती है पूरी रात
 
ख़ुद की इस बेबसी को
घृणा की अनंत सीमाओं तक
ज़िंदगी की आख़री साँस तक
जीने के लिए अभिशप्त हूँ
उसके इन शब्दों /सवालों के साथ कि
ब्रूउट्स यू टू!
ब्रूउट्स यू टू!
ब्रूउट्स यू टू!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो