ब्राईड ग्रूम बनाम ब्राईड ब्रूम

30-05-2016

ब्राईड ग्रूम बनाम ब्राईड ब्रूम

डॉ. उषा रानी बंसल

20 नवम्बर 2002 को हमारे पुत्र आशीष की शादी थी। उसकी बहिन, हमारी बिटिया अपने पाँच साल के बेटे गोविंद तथा आठ वर्ष की बेटी वसुधा के साथ बनारस आई।

जयमाल के बाद जब दुल्हा-दुल्हिन स्टेज पर बैठे थे तब आशीष के दोस्तों को शरारत सूझी। उन्होंने वसुधा को बहला-फुसला कर यह कहने को तैयार कर लिया कि स्टेज पर बैठी अपनी मामी से जा कर कहे कि "किस द ब्राईड ग्रूम (Kiss the Bride groom)"। एक मित्र उसे स्टेज पर ले गया। जा कर बोला भाभी जी ये कुछ कहना चाहती है। वसुधा घबरा गई और बोली "प्लीज़ किस दा ब्राईड ब्रूम।(Kiss the Bride broom)"। आशीष ने घूर कर दोस्तों को देखा।

दोस्त तो तेज़ी से स्टेज से भागा। बेचारी वसुधा समझ ही न पाई कि क्या हुआ?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ललित निबन्ध
कविता
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
स्मृति लेख
बच्चों के मुख से
साहित्यिक आलेख
आप-बीती
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो