काटेगा सुख यहाँ कैसे
पथ को निपट अकेले।
आओ जग के दुखों से
कुछ पल संग में लेलें।
है सुख की यही सफलता
कि सब में वह बँट जाए।
किरन भोर की जागे;
तो अँधियारा छँट जाए।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा
कविता
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
साहित्यिक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो