भीगी-भीगी शाम

01-08-2021

भीगी-भीगी शाम

अविनाश ब्यौहार

बादल ने–
लिख डाली चिट्ठी
है पावस के नाम।
 
गोटे वाली साड़ी
पहनी हरियाली ने।
मन से छप्पन भोग
सजाए हैं थाली ने॥
 
सावन में–
लुक-छिपकर मिलता
वही जेठ का घाम।
 
वर्षा की फुहारों संग
फुनगी नाच रही।
हैं ऋतुएँ झरनों के
कल-कल को जाँच रहीं॥
 
भीगी-भीगी
सुबह-दोपहर
भीगी-भीगी शाम।
 
दूध सा उफनाकर
बनी हैं मौजें बाढ़।
गरम ऐरे-ग़ैरे नत्थू ख़ैरे
की दाढ़॥
 
शाम ढले
फिर बियर-बार में
टकराते हैं जाम।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें