बेशुमार काँटे इस डगर

01-10-2019

बेशुमार काँटे इस डगर

किशन नेगी 'एकांत'

सहज नहीं मंज़िल
सुगम नहीं सफ़र
सुलभ नहीं साधन
मगर रुकना नहीं कर्मपथ पर


चलना है निरंतर
बढ़ना है अविरल
प्रयास कर सतत
मगर डिगना नहीं अग्निपथ पर


होना नहीं उदास
होना नहीं निराश
होना नहीं हताश
परचम फहराएगा विजयपथ पर

0 Comments

Leave a Comment