बेचारा गोलू

01-02-2020

बाल दोहे

 

मम्मी ने हँसकर कहा, उठ जा मेरे लाल।
आज नहा ले तू ज़रा, धोले अपने बाल।

 

हुए पाँच दिन आज तक, पानी से तू दूर।
एक बार अस्नान कर, ठण्ड भगे काफूर।

 

मम्मी देखो ठंड में, जमे नदी तालाब
चारों तरफ़ से उठ रहा, कोहरे का सैलाब।

 

इतनी निष्ठुर मत बनो, मन में रख लो धीर।
आज नहाने मत कहो, ठंड बड़ी बेपीर।

 

हाथ जोड़कर आपसे, विनती करूँ हुज़ूर।
आज नहाना छोड़ कर, सज़ा सभी मंजूर।

 

स्वच्छ सफ़ाई से सदा, बुद्धि दे भगवान।
एक नहीं अब चल सके, कर लो तुम अस्नान।

 

उठो अभी इस वक़्त ही, भले विकट हो ठण्ड।
वर्ना मम्मी से पड़े, कड़ी डाँट का दंड।

 

बेचारा गोलू उठा, नहीं गली फिर दाल।
काँपे तन मन ठण्ड से, नहा रहा बेहाल।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक आलेख
लघुकथा
सामाजिक आलेख
गीत-नवगीत
सिनेमा और साहित्य
कहानी
कविता
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो