हम तो बहता जल नदिया का,
अपनी यही कहानी बाबा।

ठोकर खाना उठना गिरना,
अपनी कथा पुरानी बाबा।

कब भोर हुई कब साँझ हुई,
आई कहाँ जवानी बाबा।

तीरथ हो या नदी घाट पर,
हम तो केवल पानी बाबा।

जो भी पाया वही लुटाया,
ऐसे औघड़ दानी बाबा।

अपने क़िस्से भूख-प्यास के,
कहीं न राजा-रानी बाबा।

घाव पीठ पर मन पर अनगिन,
हमको मिली निशानी बाबा।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो