बदली निगाहें वक़्त की क्या क्या चला गया

15-12-2019

बदली निगाहें वक़्त की क्या क्या चला गया

देवमणि पांडेय

बदली निगाहें वक़्त की क्या क्या चला गया
चेहरे के साथ साथ ही रुतबा चला गया

 

बचपन को साथ ले गईं घर की ज़रूरतें
सारी किताबें छोड़कर बच्चा चला गया

 

मेरी तलब को जिसने समंदर अता किया
अफ़सोस मेरे दर से वो प्यासा चला गया

 

वो बूढ़ी आँखें आज भी रहती हैं मुंतज़िर
जिनको अकेला छोड़कर बेटा चला गया

 

रिश्ता भी ख़ुद में होता है स्वेटर की ही तरह  
उधड़ा जो एक बार, उधड़ता चला गया

 

अपनी अना को छोड़ के पछताए हम बहुत
जैसे किसी दरख़्त का साया चला गया

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें