बदलाव

बसंत आर्य

पहले वे
इन बेकार की बातों में
वक़्त ज़ाया करना
मूर्खता समझते थे,
परंतु
कुछ दिनों से
बिलकुल बदल गये हैं,
परसों वे
गाँधी की समाधि पर
डाल रहे थे क़ीमती इत्र
और कल
शहर के चौराहे पर
उन्होंने टँगवा दिया है
उनका एक विशाल चित्र
आज वे नेहरू की मूर्ति पर
फूल माला चढ़ायेंगे
और कल बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के
"दौड़े" पर जायेंगे,
सवाल उठता है
आख़िर क्यों?
वे गरीबों के लिए 
इतना क्यों कर रहे हैं
तो सुना है इस साल वे
चुनाव लड़ रहे हैं

0 Comments

Leave a Comment