बहुत तेज़ गर्मी है मम्मी
कहाँ गया बादल का पानी।
सूखी सूखी सी धरती है
कहाँ गई वो चूनर धानी।
 
रूठ गए हैं बादल भैया,
कोई उन्हें मना कर लाओ।
बादल भैया बादल भैया ,
क्यों रूठे तुम ये बतलाओ।
 
पेड़ सभी तुमने काटे हैं,
बोलो मैं कैसे आ जाऊँ?
वर्षा बूँदें इनसे बनती,
अब कैसे पानी बरसाऊँ?
 
प्रकृति संग खिलवाड़ किया है,
धुएँ भरे संयंत्र लगाए।
पर्यावरण नष्ट कर तुमने ,
काट वनों को शहर बनाये।
 
बादल भैया बादल भैया ,
आज क़सम हम सब धारेंगे।
पाँच पेड़ हर साल लगायेंक,
हम पर्यावरण सुधारेंगे।

घन घन घन घन घोर गरज कर,
बरस रहें हैं बादल भैया।
कितना मज़ा आ रहा मम्मी,
गोलू नाचे ता था थैया।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
बाल साहित्य कविता
कहानी
कविता
गीत-नवगीत
दोहे
लघुकथा
किशोर साहित्य कविता
नाटक
ग़ज़ल
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में