और एक मैं

01-12-2019

दो चार चेहरे - 
मेरे आस पास रहते हैं,
जाने-पहचाने,
देखे-भाले,
मिलते जुलते से. . .
गोया, सब हमशक़्ल हैं मेरे,
एक पुजारी,
एक शराबी,
एक भिखारी,
और एक मैं. . .

0 Comments

Leave a Comment