आशा की खिड़की

01-08-2021

आशा की खिड़की

नीतू झा

हर स्त्री के अंदर
एक आशा की
खिड़की होती है
जिससे कभी
ताक झाँक लेती है वो
देख लेती है
स्वप्न ख़ुशियों के
उड़ लेती है
उस खिड़की के बाहर
स्वप्न के आसमान में..
 
फिर आ जाती है
उस खिड़की के भीतर
अपने सीमा में
जी भर कर रो लेती है
सिसकियाँ भरते हुए..
 
फिर,
एक दृढ़ संकल्प ले
पोंछ लेती है
अपने सारे आँसू
और निकल जाती है
हँसता हुआ चेहरा लेकर
सब को ख़ुश करने . . .

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें