अपनों को क्यों भूल गए

01-03-2019

अपनों को क्यों भूल गए

सुनील चौधरी

सोचा था
हा सोचा था
कुछ बड़ा करूँगा
माँ-बाप का नाम करूँगा
नाम तो होगा भी मेरा
ठाठ-बाठ से ब्याह करूँगा
लेकिन यह क्या?
मित्र चलते-चलते झूल गए तुम
फाँसी का ही फंदा सूझा
अपनों को क्यूँ भूल गए तुम?

ख़्वाबों की दुनिया क्यों
इतनी बड़ी बनाई?
एक तरफ़ है कुआँ खोदा
दूजी तरफ़ थी खाई
नौकरी की भाग दौड़ में
जीवन जीना भूल गए तुम।
फाँसी का ही फंदा सूझा
अपनों को क्यूँ भूल गए तुम?

अगर नौकरी ना पाते तो
कौन ग़ज़ब है हो जाता?
हाथ-पैर की मेहनत से
घर भी धन से भर जाता
ख़्वाबों को पूरा करते-करते
स्वयं से ही हार गए तुम
फाँसी का ही फंदा सूझा
अपनों को क्यूँ भूल गए तुम?

माँ से तो कह सकते थे-
माँ मेरे अब बस की नहीं
बापू भी कह ही देते-
कर लो बेटा मन कही
अंतर्मन में डूब डूबकर
आज आख़िर डूब गए तुम
फाँसी का ही फंदा सूझा
अपनों को क्यूँ भूल गए तुम?

0 Comments

Leave a Comment