अंधा शहर

01-04-2021

अंधा शहर

मधुश्री

शहर की रातों में 
सड़कों पर रेंगते साए
दिन के उजालों का
झूठा भरम पाले बैठे हैं
 
दिन के उजाले में डराते
थे जो काले साए 
दूधिया रातों में 
दूध से ही नहाए बैठे हैं
 
है नक़ाबपोश यहाँ
रात के ये सौदागर
रेत के समुंदर में छुपे 
बगुला भगत बैठे हैं
 
शहर की भीड़ में
तारा भी कोई टूटा तो
हैं अंधे लोग यहाँ
जुगनू समझ बैठे हैं
 
रात है काली मगर
जगमगाती तारों से
विषमयी मदिरा सोम
प्याला समझ बैठे हैं

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में