अनछुई छुअन

01-02-2020

अनछुई छुअन

कविता

अनछुई छुअन का मीठा
अहसास हो तुम
दूर होकर भी
मेरे पास हो तुम...


मेरे भी नहीं
अजनबी भी नहीं
मेरी जन्मों की
अबूझ प्यास हो तुम
दूर होकर भी ......


मैं इठलाती लहर
मेरे सागर हो तुम
मैं अनकहा सुर
मेरी सरगम हो तुम
दूर होकर भी
मेरे पास हो तुम
अनछुई छुअन का
मीठा अहसास हो तुम |

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें