अमरेश सिंह भदौरिया - मुक्तक - 1

15-02-2020

अमरेश सिंह भदौरिया - मुक्तक - 1

अमरेश सिंह भदौरिया

1.
कहीं      भक्त     बदलते   हैं,
कहीं    भगवन   बदलते   हैं।
गिरगिट की तरह आजकल,
इंसान       बदलते           हैं।
किस     पर     करें  भरोसा ,
जताएं    यक़ीन   किस पर ;
कपड़ों   की तरह लोग अब,
ईमान         बदलते        हैं।

2.
अंगारों     से     जब-जब 
मैं    हाथ    मिलाता   हूँ।
जलन     के     हर   बार 
अहसास   नए   पता  हूँ।
दूसरे     के  अनुभव   से 
बेशक तुम्हारा  काम चले,
अनुभव हक़ीक़त के लिए
मैं    हाथ    जलाता    हूँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
कविता-मुक्तक
कविता
कहानी
नवगीत
विडियो
ऑडियो