01-07-2019

अख़बार पढ़ना बहुत ज़रूरी है

नरेंद्र श्रीवास्तव

अख़बार पढ़ना 
बहुत ज़रूरी है

 

वरना
पता ही नहीं लगता
कहाँ पानी के लिये
कितनी दूर तक
पैदल निकलते हैं
पुरुष, महिलायें, बुज़ुर्ग, बच्चे

 

कहाँ हो जाती है 
सिर फुटौव्वल

 

कहाँ पानी के बिना
प्यासे मर रहे हैं
शेर, हाथी, साँप, पक्षी,चींटी... लोग

 

अख़बार न पढ़ने की
ग़लती से
बेख़बर 
सींचते रहते हैं
अपना गलियारा
धोते रहते हैं अपना वाहन
बहाते रहते हैं पानी...

 

इसीलिये
अख़बार पढ़ना
बहुत ज़रूरी है

 

लोग कहेंगे तो
बुरा लगेगा 

 

यक़ीन भी नहीं करेंगे

 

और बहाते रहेंगे पानी
निर्भीक... अहं भरे 

 

मोबाइल में
फ़ीड नेताओं के नंबरो ने
बना दिया है निष्ठुर.. पंगु

 

जानते हैं
उन्हें फोन लगाते ही
आसपास गूँजने लगेंगी
आवाज़ें...
जी सर...यस सर...नो सर...
और फिर
फिर कोई कुछ नहीं कहेगा
सींचते रहेंगे गलियारा
दिनभर.. रात-दिन..मनमर्ज़ी तक

 

वोट बहुत क़ीमती है
नेताजी जानते हैं
आप भी
... और हम भी।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
कविता - हाइकु
विडियो
ऑडियो