अजनबी औरत

देवी नागरानी

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद 
हिंदी अनुवाद –देवी नागरानी
(एक थका हुआ सच - अनुवादक देवी नागरानी)


आईने में अजनबी औरत क्या सोचती है
मैंने पूछा ‘बात क्या है?’

 

वह मुझसे छिपती रही
मैं लबों पर लाली लगाती हूँ तो वह सिसकती है
अगर उससे नैन मिलाऊँ तो
न जाने क्या-क्या पूछती है

 

घर, बाल-बच्चे, पति सभी ख़ुशियाँ मेरे पास
और उसे न जाने क्या चाहिये?   

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
अनूदित कहानी
कहानी
साहित्यिक आलेख
ग़ज़ल
अनूदित कविता
पुस्तक चर्चा
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो