ऐ ज़िंदगी थोड़ी ठहर जा!

15-09-2021

ऐ ज़िंदगी थोड़ी ठहर जा!

हनुमान गोप

ऐ ज़िंदगी थोड़ी ठहर जा,
तेरी रफ़्तार से घबराने लगा हूँ मैं!
 
मन के भावों को भी थाम ले कोई,
इस भटकाव से कुम्हलाने लगा हूँ मैं!
 
वो ज़माना और था, दौड़ती थी जब ज़िंदगी,
अब तो ठहराव में सुकूँ पाने लगा हूँ मैं!
 
कभी बारिश की इन बूँदों का क़ायल था,
अब कीचड़ से पाँवों को बचाने लगा हूँ मैं!
 
मोहब्बत भी की, दोस्ती भी ख़ूब निभाई,
अब इन रिश्तों से कतराने लगा हूँ मैं!
 
समय के साथ शायद सब कुछ बदल रहा,
इस बदलते परिवेश को अब अपनाने लगा हूँ मैं!
 
ऐ ज़िंदगी थोड़ी ठहर जा,
तेरी रफ़्तार से घबराने लगा हूँ मैं!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें