अफ़वाहों के पैर में

01-05-2019

अफ़वाहों के पैर में

सुशील यादव

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन।
जाने कल फिर हो न हो, पैरों तले ज़मीन॥

 

अफ़वाहों के पैर में, चुभी हुई जो कील।
व्याकुल वही निकालने, बैठा आज 'सुशील'॥

 

अफ़वाहें मत यूँ उड़ें, मन हो लहू-लुहान।
मंदिर सूना भजन बिन, मस्जिद बिना अजान॥

 

मेरे घर में छा गया, मेरा ही आतंक।
राजा से कब हो गया, धीरे-धीरे रंक॥

 

हाथ लगी जब चाबियाँ, निकले नीयत-खोर।
बन के भेदी जा घुसे, लंका चारों ओर॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
दोहे
ग़ज़ल
कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो