अदृश्य शत्रु कोरोना

01-04-2020

अदृश्य शत्रु कोरोना

राजनन्दन सिंह

हमारा तीर तलवार
छुरी खंजर 
ढाल कटार


गोला-बारुद
रायफ़ल बंदूक
तोप मिसाइल 
युद्धक पोत
युद्धक विमान
शस्त्रागार


सब 
धरा का धरा रह गया
कहीं से कोई 
कुछ काम न आया
जब 
अदृश्य शत्रु
कोरोना ने 
हम मानवों का 
गला दबाया

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में