आँखों में

धुँआ

जैसे अन्धा कुआँ

        सूरदास की आँखें

        बगुला की पाँखें

            तुमने मुझे छुआ

            अंधेरे में

            अदेह !

                मैं उड़ा

                    झपटा मछली की

                        आँख पर

                सूखे पोखर का

                    रहस्य

                        न मछली

                            न मछली की आँख

                बस

                सूखे कठोर

                मिट्टी के ढेले

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
साहित्यिक आलेख
कहानी
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
सामाजिक आलेख
स्मृति लेख
आप-बीती
विडियो
ऑडियो