अब ख़ुशी की हदों के पार हूँ मैं

15-02-2016

अब ख़ुशी की हदों के पार हूँ मैं

देवी नागरानी

अब ख़ुशी की हदों के पार हूँ मैं
दर्द पिघला है अश्क़ बार हूँ मैं।

गीत कैसे न सुर में ढल जाते
दोस्तो साज़े दिल का तार हूँ मैं।

जिसने पी है तेरी निगाहों से
जो न उतरे वही खुमार हूँ मैं।

जिनको माँगे बिना मिले आँसू
उन्हीं लोगों में अब शुमार हूँ मैं।

जिससे घायल नहीं हुआ कोई
मोम की एक बस कटार हूँ मैं।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
अनूदित कहानी
कहानी
साहित्यिक आलेख
ग़ज़ल
अनूदित कविता
पुस्तक चर्चा
बाल साहित्य कविता
विडियो
ऑडियो