या तो
समुद्र की लहरों पर
हो
मेरा बसेरा
कभी सोऊँ नहीं

या
सोती रहूँ
तेरे विशाल वक्षस्थल पर
कभी जागूँ नहीं

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

ललित निबन्ध
साहित्यिक आलेख
पुस्तक समीक्षा
कविता
पुस्तक चर्चा
दोहे
विडियो
ऑडियो