आपसी सहयोग

15-12-2020

आपसी सहयोग

जितेन्द्र 'कबीर'

गाँवों ने!
          ज़िंदा रखा है
          सामुदायिक सहभागिता को,
          मिलकर ज़िंदगी की ख़ुशी-ग़मी,
          और फ़सलों के काम निपटाते हुए,
 
शहरों ने!
          तो कब की तिलांजलि दे रखी है,
          साधारण मानवीय मूल्यों को भी
          रुपयों के घमण्ड में अकड़ते हुए।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें