आग (सनी गंगवार ’गुरु’)

01-09-2020

आग (सनी गंगवार ’गुरु’)

सनी गंगवार 'गुरु'

ये भूख की आग है साहब
मौत से नहीं डरती 
पैदल ही चलने को मजबूर करती है
हज़ारों मील
किस लिए चलते हैं
आग बुझाने के लिए 
ज़रूरत नहीं है इनको
करोड़ों रुपए के सूट की
फटे-पुराने कपड़ों ही बहुत हैं
तन ढकने को
इनको ज़रूरत है
सिर्फ़ रोटी की
इनको चिंता नहीं है
अपने बच्चों के भविष्य की
इनको चिंता है
अपने बच्चों की एक वक़्त रोटी की
हुक्मरानो तुमने बंद तो कर दिया
ज़रूरत पूरी नहीं की 
मज़दूरों की 
मौत का तांडव हो रहा है
भुखमरी का
महामारी का
ये भूख की आग है साहब
यूँ ही शांत नहीं होती

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें