अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.01.2017

हास्य-व्यंग्य

, , , , , , , , , क्ष, ख्, , , , , , ज्ञ, , , , , , , त्र, , , , , , , , , म, , , , , श-ष, श्र-शृ, , ,

     
   
अगर तुम न होते
अथ श्री आलोचक कथा
अवार्ड वापसी गैंग की दास्ताने दर्द
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता
अराजकता फैलाते हनुमानजी
अली बाबा और चालीस चोर
अस्पताल में एक और आम हादसा
    - ऊपर
   
आँख नहीं लगती
आईये! पर्यावरण बचाएँ
आतंक एक जासूसी कुत्ते का
आत्मा की आवाज़
ऑफ़िस शोक
आम आदमी और बाढ़ का सुख
आर्ट आफ टार्चरिंग
    - ऊपर
   
इक बंगला बने न्यारा इच्छा (लघुकथा)  
    - ऊपर
   
ईमानदार राजनीति पर भारी बेईमान मौसम    
    - ऊपर
   
उधार दे, कुएँ में डाल    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
एक अनार के कई बीमार
एक और वैष्णव का उदय
एक झोला छाप वार्ता......
एक शर्त भी जीत न पाया
 एनजीओ का शौक़
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
​और बड़कू मामा बन गए बुद्धिजीवी​    
    - ऊपर
   
कम्प्यूटर का कमाल
कल-कल निनाद
कार्यालयों की गति
काश, मैं भी एक आम आदमी होता
काश ! हम कबूतरबाज होते.....
क्रिकेट पालिटिक्स है
क्रिकेट में स्विंग तो राजनीति में स्टिंग
किसान नंबर वन?
क़िस्सा-ए रामलाल-श्यामलाल
कुछ तो सस्ता भी होता है
कैसा होगा आपका 2009 नया वर्ष
कौन है आम आदमी
कोठी (नाटक)
कोफी अन्नान की बीवी
क्यों करे इंडिया को भारत
    - ऊपर
क्ष    
     
    - ऊपर
   
खबर रिस रही है? खाने का सब रस ले लियो मोटापा  
    - ऊपर
गड़े मुर्दों की तलाश....
ग़म खा - ख़ूब गा...!!
गरम है जूतों का बाज़ार
गुणों की खान-मोटों के नाम गुस्से में है भैंस
गोद में गाँव, शहर बने स्मार्ट
- ऊपर
   
घुड़चढी के दिन आये    
    - ऊपर
   
चंगेरीलाल का हस्ताक्षर ज्ञान
चमचा अलंकरण समारोह
चलो लोहा मनवायें चाहिए एक अदद बीवी
- ऊपर
   
छोटे बच्चे - भारी बस्ते    
    - ऊपर
   
जंगल विभाग
जब भगवान ने भारत से चुनाव लड़ा
जब लक्ष्मी धरती पर आई!

जनमत संग्रह तो बहाना है
ज़हर किसे चढ़े?
जायें तो जायें कहाँ?
ज़िंदा-जी हरिद्वार यात्रा
ज़िम्मेदारों के बीच यमराज
जी.डी.पी. का अद्भुत विस्तार
जीभ चटोरी भी, ... जीभ जूतियाँ भी खिलाती है....
जूठन ही सत्य है
जेनरेशन गैप इन कुत्तापालन
जो ना समझे वो अनाड़ी है
    - ऊपर
ज्ञ    
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर

   
ट्यूशन शरणम् गच्छामि टिप्पणी पर टिप्पणी!  
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
डंडे का करिश्मा    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
तीसरे दर्जे का शुभचिंतक तुर्रम खाँ नहीं रहे तू काहे न धीर धरे ......।
तेरी सोच-मेरी सोच
- ऊपर
त्र    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
दर्द की दवा
दाँत निपोरने की कला
दादाजी और इंटरनेट
दिले नादां तुझे हुआ क्या है ...?
दुखिया सब संसार
दुहाई है दुहाई
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
 नंगा सबसे चंगा
नन्द लाल छेड़ गयो रे
नया धर्म
नया साल, अपना स्टाइल
नये वर्ष २००९ की एक शाम की
नशा मुक्ति केंद्र में लेखक
बर्थ डे पार्टी का आमंत्रण
निर्दलीय होने का सुख
नैनो है गुणकारी कार
नो कमेंट्स प्लीज!
    - ऊपर
   
पति-भ्रम
पत्नी का पल्ला

पत्नी की मिडिल क्लास, "मंगल-परीक्षा"
पत्नी बीमार है
पद-पुराण
पारो सुरा के सुरूर में क्यों नहीं डूबी?
प्राइवेसी कहाँ!
पीर पराई जान रे ..
पुलिसिया हेलीकाप्टर
    - ऊपर
   
फेयरवेल फोटुओं और कार्यक्रमों का रिश्ता  
    - ऊपर
   
बचपन-बुढ़ापा थे कभी वारिस.... अब लावारिस....
बजट का हलवा
बदला... राजनीति में
बधाई हो बधाई!!
बढ़े बालों से योग प्रशिक्षण के रिश्ते
बरसात में
बलात्कार मंजूर विवाह नहीं

बारात के घोड़े...
बॉर्डर क्रासिंग (नाटक)
बिना जुगाड़ के छपना
बुढ़ौती में तीरथ
बैकुंठ में जन्म लेती कुंठाएँ
बैटरी चार्ज करने के लिए दिल उधार माँगू रे।
- ऊपर
   
भक्त की फ़रियाद
भगवान की सबसे बड़ी गल्ती!
भाईजी की मूर्ति
भाड़ में जाय तुम्हारा होली विशेषांक भारत में यौन क्रांति का सूत्रपात
भावना को समझो
भ्रष्टाचार युगे-युगे
भ्रष्टाचार व गज की तुलना
    - ऊपर
   
मकड़ी का जाला
मामला वन वे वाला
मिक्सिंग, फिक्सिंग और क्या??
मीनाबाज़ार
मुखर-मुखिया, मजबूर मार्गदर्शक...!!
मुझको प्यार तुमसे है
मुझे सी.डी. चाहिए, पापा!
मुहब्बत में राजनीति
    - ऊपर
   
यह ताज़ा पानी क्या है?  योग के बहाने  
    - ऊपर
   
रंग बदलती टोपियाँ
रब्ब ने मिलाइयाँ जोड़ियाँ...!

रसगुल्लों के प्राण
राज़ की बात
राजनीतिक निवेश में ऐश ही ऐश
राम नाम सत्य है।
रेडियो वाली से मेरी इक गुफ़्तगू
 
    - ऊपर
   
लांच से ज़्यादा लंच में रुचि
लेखक के परिचय का सवाल
   
    - ऊपर
   
वर्ल्ड कप क्रिकेट के एक रसिया द्वारा अपनी पत्नी को दिया गया पत्र विलक्षण प्रतिभा के "लोकल" धनी
विवाह का एल्बम
विश्व बैंक की रिपोर्ट व एक भिखारी से संवाद
व्यंग्य मार्केटिंग में बीवियाँ
    - ऊपर
श-ष    
शनिदेव बनाम पुलिसदेव
शर्मा एक्सक्लूसिव पैट् शॉप
शहर सिखाने पर उतारू है शिकार करने का जन्मसिद्ध अधिकार
    - ऊपर
श्र-शृ    
     
    - ऊपर
   
संकट
सठियाये हुओं का बसंत
सबसे सस्ते दिन
समस्या का समाधान
"सर" का डर...!
सरकार की खिंचाई
सरकार की लाडली बेटी है महँगाई
सर्व सम्मति से
60 साल का नौजवान
सावधान, वे सड़कों पर घूम रहे हैं
सिंघम रिटर्न ५३ ....
सिर पर उनकी, हमारी नज़र, हा-लातों पर
सुन बे रक्‍तचाप!
सौ साल पहले
    - ऊपर
   
हमारी पार्टी ही देश को बचायेगी होता जो हनीमून नेपाल में  
- ऊपर
   

 

    - ऊपर