अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.31.2018


पुस्तक बाज़ार की नई ऐप्प
 सुमन कुमार घई

आप लोग जानते हैं कि साहित्य कुञ्ज और पुस्तक बाज़ार.कॉम का घनिष्ट संबंध है। हालाँकि यह http://21gfox.ca के साथ साझेदारी में व्यवसायिक उपक्रम है परन्तु उद्देश्य बाज़ार की शक्ति द्वारा हिन्दी साहित्य को पाठकों तक पहुँचाने का ही है। पुस्तक बाज़ार की विशेषता यह है कि इसके द्वारा प्रकाशित सभी पुस्तकें चयन और संपादन प्रक्रिया से गुज़रती हैं। इसलिए आपको यहाँ पर स्तरीय साहित्य की पुस्तकें मिल सकती हैं। अभी तक गूगल प्ले स्टोर पर पुस्तक बाज़ार की जो ऐप्प थी, उसकी कुछ कमियाँ सामने आईं। इसलिए इस ऐप्प का संशोधित रूप भी नए वर्ष में आपके लिए गूगल प्ले स्टोर पर पहले की तरह ही निःशुल्क उपलब्ध होगा। आपके द्वारा पहले से ख़रीदी हुई ई-

पुस्तकें पहले की तरह आपकी “मेरी लाइब्रेरी” में सुरक्षित रहेंगी।

नई ऐप्प का साईज़ छोटा है, यानी इसे डाउनलोड करना और इंस्टाल करना आगे से आसान होगा।

पुस्तक बाज़ार.कॉम इस ऐप्प के लांच करने के साथ ही एक और बड़ा परिवर्तन कर रहा है। अब ई-पुस्तक का ख़रीददार एक ही क़ीमत में ई-पुस्तक की पाँच प्रतियाँ खरीद सकेगा। अब इसका लाभ ख़रीददार कैसे उठाता है, उस पर निर्भर करता है। प्राय लोगों के पास एक से अधिक उपकरण होते हैं जैसे पीसी, लैपटॉप, मोबाईल, टेबलेट और ई-रीडर, यानी वह अपने सभी उपकरणों पर अपनी लाईब्रेरी बना सकता है और पूरा परिवार किसी भी समय ई-पुस्तकें पढ़ सकता है।

इस सुविधा का लाभ उठाने का एक और ढंग है। मैं साहित्य कुंज के पाठकों और साहित्यिक संस्थाओं को आमन्त्रित करता हूँ कि वह अपने अपने बु्क-क्ल्ब बनायें और एक से अधिक उपकरणो पर एक ही यूज़रनेम और पासवर्ड द्वारा एक ई-पुस्तक की पाँच प्रतियाँ डाउनलोड करके पढ़ें, और इन रचनाओं पर चर्चा करें। इन चर्चाओं को हम लोग साहित्य कुञ्ज में पुस्तक चर्चा स्तंभ में प्रकाशित करें।

तीसरा लाभ है कि पाँच मित्र मिलकर हर महीने या सप्ताह पुस्तक खरीदें, यानी इस तरह पुस्तक उन्हें 80‌% छूट में मिलेगी।

केवल उद्देश्य अच्छे साहित्य को साहित्य प्रेमियों तक पहुँचाने का है।

पुस्तक बाज़ार.कॉम शीघ्र ही ऐप्पल के लिए भी ऐप्प लेकर आ रहा है। इसकी सूचना भी आपको मिलती रहेगी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें