अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.28.2017


सम्पादकीय
हिन्दी साहित्य के पाठक कहाँ हैं?
सितम्बर द्वितीय, 2017

प्रिय मित्रो,

पिछले दिनों प्रसिद्ध कहानीकार तेजेन्द्र शर्मा ने फ़ेसबुक पर प्रश्न पूछा था - हिन्दी साहित्य के पाठक कहाँ हैं? सैंकड़ों लोगों ने उनके प्रश्न पर प्रतिक्रिया प्रकट की। मैंने भी एक टिप्पणी की। पर तेजेन्द्र जी के इस प्रश्न ने मन में उस संदेह को शब्द दे दिये जो कि हिन्दी के लेखक वर्षों से मन ही मन पूछते रहे हैं।

निःस्संदेह यह एक गंभीर प्रश्न है और इसका कोई सीधा उत्तर हो ही नहीं सकता। सदियों की उपेक्षा के इतिहास को कौन एक वाक्य, एक आलेख और एक संपादकीय में व्यक्त कर सकता है। फिर भी एक चर्चा आरम्भ करना चाहता हूँ और आप सभी को आमंत्रित कर रहा हूँ - इस विषय पर सोचें और अपनी प्रतिक्रिया लिख भेजें।

भारत के पारिवारिक जीवन में साहित्य की आजकल क्या भूमिका है - इससे मैं बिल्कुल अनिभिज्ञ हूँ। मैं तो अभी भी उस काल में अटका हुआ हूँ, जिस काल में मैं प्रवासी बना था। शायद हमारे लिए या मेरी पीढ़ी के लोगों के लिए साहित्य मनोरंजन के सीमित साधनों के कारण महत्वपूर्ण था।

हो सकता है कि कोई तर्क दे, आज मनोरंजन के नए साधनों की बाढ़ है। इंटरनेट, सोशल मीडिया टी.वी. को पीछे छोड़ता जा रहा है। इस दौर में साहित्य कौन बैठ कर पढ़ेगा? यह तर्क ठोस नहीं है। पश्चिमी देशों को देखते हुए, जहाँ मैं जी रहा हूँ , साहित्य अभी भी जीवित है। साहित्य का ख़रीददार भी जीवित है। पुस्तकों का प्रारूप अवश्य बदल गया है या कहें प्रारूप के नये विकल्प हो गये हैं। पेपरबैक से लेकर ई-पुस्तकों के उतने ही ख़रीददार उपस्थित हैं जितने कि पिछली सदी में थे। बल्कि बढ़े ही हैं कम नहीं हुए। भारत में ऐसा क्या हो गया कि साहित्य के पाठकों की कमी हो गयी?

आज भारत या कम से कम महानगरीय समाज की तुलना पश्चिमी देशों के महानगरीय समाजों से करें तो दोनों एक ही स्तर पर हैं। पर यह समानता केवल ऊपरी सतह तक ही है। थोड़ा कुरेदो और समझो तो पश्चिमी देशों के समाज की सांस्कृतिक गहराई भारत की महानगरीय संस्कृति से कहीं अधिक है। क्योंकि पश्चिमी समाज की जड़ें पश्चिम की मिट्टी में पनपी हैं। इस मिट्टी की परतें ऐतिहासिक, भौगोलिक, सामाजिक और सांस्कृतिक हैं। भारत की महानगरीय संस्कृति आयातित है - भारतीयता का पुट तो है, जड़ें भारतीय हैं और ऊपर पौधा पश्चिमी संस्कृति की कलम बाँध कर विकसित हो रहा है। तो गहराई कैसे होगी। इसका सीधा प्रभाव साहित्य पर होगा ही विशेषकर हिन्दी साहित्य पर। पाठक एक ऐसा जीवन जी रहा है जिसकी जड़ें ऊपरी सतह पर ही फैली हैं और उसका जीवन विदेशी भाषा से सींचा जा रहा है; लेखक बेचारा क्या करे? कुछ हद तक उसकी रचनाएँ महानगरीय बाज़ार के अनुसार तो लिखी जा सकती हैं परन्तु भारत केवल महानगरों में ही तो नहीं बसता। जब घर में, स्कूल में, समाज में और काम पर भाषा ही भारतीय नहीं होगी तो भारतीय भाषाओं को पढ़ेगा कौन? विशेषकर जब भारत में भारतीय भाषा बोलने वाले को सामाजिक दृष्टिकोण से कमतर समझा जाता हो। कहते हुए बुरा तो लगता है, जब तक हिन्दी की पुस्तकें पढ़ना "फ़ैशनेबल" नहीं हो जाता महानगरों में हिन्दी साहित्य को संघर्ष करना ही पड़ेगा।

अब देखते हैं कि साहित्य का क्रेता/ख़रीददार कौन है? कहाँ रहता है? उसकी आर्थिक क्षमता क्या है? हालाँकि पिछले कुछ दशकों से मध्यवर्गीय उपभोक्ताओं में वृद्धि हुई है। यह उपभोक्ता पुस्तकें खरीदने की आर्थिक क्षमता रखते हैं पर शायद खरीदते नहीं है। क्यों? यह एक विचारणीय प्रश्न है।

क्या मध्यवर्गीय समृद्धता के लक्षणों में हिन्दी साहित्य की पुस्तकें हाथ में होना या ड्राइंगरूम के टेबल पर दिखना पिछड़ेपन का चिह्न तो नहीं समझा जाता?

पश्चिमी देशों में साहित्य का पाठक स्कूल प्रणाली तैयार करती है क्योंकि यहाँ पर पाठ्यक्रम के अतिरिक्त पुस्तकों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। सिनेमा की टिकटों के लिए अगर लम्बी लाईन लगती है तो चर्चित पुस्तकों खरीदने वालों की भी उतनी ही लम्बी लाईन लगती है। इन देशों में न तो मनोरंजन के साधन सीमित हैं और न ही स्वदेशी भाषा के साहित्य को पढ़ना गँवारपन का प्रतीक समझा जाता है। इसका हो सकता है कि ऐतिहासिक कारण रहा हो। मध्यकालीन युग में क्योंकि पुस्तकें हस्तलिखित होती थीं तो यह केवल अभिजात्य वर्ग या धार्मिक मठों तक ही सीमित रहती थीं। छापेखाने का अविष्कार होने के बाद, समाज में उच्चवर्ग के लोगों में प्रतिष्ठा को स्थापित करने के लिए हर घर में लाइब्रेरी का अलग कमरा होना अनिवार्य सा था। मध्यवर्गीय आर्थिक विकास के पश्चात यह पुस्तकें समाज के अधिकतर लोगों की पहुँच में हो गयीं। पुस्तकों की खरीदने, उन्हें पढ़ने और उन पर विचार करने की रीत अभी तक चली आ रही है।

मित्रो यह चर्चा की शुरूआत है। हो सकता है कि मेरे विचारों से आप सहमत न हों और उससे बढ़कर कुछ विचार चुभें परन्तु मेरे अनुभव के अनुसार जो मैंने कहा वह सच है। आशा है कि आप इस विचार शृंखला को न केवल आगे बढ़ायेंगे बल्कि अन्य मित्रों को भी इस दिशा की ओर प्रोत्साहित करेंगे।

- सादर
सुमन कुमार घई


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें