अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

कभी किसी को कमज़ोर मत समझो

kabhee kisee ko kamzor mat samajho

विजय विक्रान्त

जंगल में शेर का राज था। सारे जानवर, इस भय से कि
            Jangala    mein  sher  kaa raaj  thaa.   Saare   jaanavar,      Is    bhay   se    ki
 
कहीं शेर उन्हें खा न जाये, डर के मारे अपने बिलों में

kaheen sher unhen khaa   na jaaye,   dar      ke maare  apane    bilon    mein

छुपे रहते थे। यों तो दिन भर शेर सोता रहता था। बस

chhupe rahate the.  Yon to din    bhar     sher sotaa rahataa      thaa. bas

भूख लगने पर ही बाहर आता था और शिकार करके अपना

bhookh lagane par hee baahar aataa thaa aur shikaar karake apanaa

पेट भर जाने के बाद फिर सो जाता था। ऐसे ही यह क्रम

pait bhar jaane ke baad phir so jaataa thaa. Aise hi yaha kram

चलता रहा।

 
chalataa rahaa.

 एक दिन जब शेर गहरी नींद में सो रहा था तो अचानक

              Ek         din    jaba    sher   gaharee neend mein so  rahaa thaa to   achaanak
कहीं से एक चूहा उसके ऊपर चढ़ गया और उसके सारे
kaheen se  ek     chuhaa usake     uupar chardh gayaa    aur   uusake  saare
बदन पर दौड़
-धूम मचाने लगा। जब चूहा शेर के पैर के पास
badana par daurha-dhoom machane lagaa.    Jaba choohaa sher ke pair ke paas 

पहुँचा तो एकाएक शेर ने उसको अपने पंजे में दबोच लिया

pahunchaa to ekaaek sher ne uusako apane panje mein daboch liyaa

और मारने के लिये पंजा दबाना शुरु कर दिया। चूहे ने जब

aur maarane  ke liye panjaa dabaanaa shuruu kar diyaa. chuuhe ne jab

ये देखा कि अब तो जान गई तो गिड़गिड़ा कर कहने लगा।

ye dekhaa ki ab to jaan gaee to girhagirhaa kar kahane lagaa,

हे वनराज, मेरी इस छोटी सी जान को लेकर आपको क्या         “hai vanraaj, meree is chhotee see jaan ko lekar aapako kyaa
मिलेगा। मेरे इस नन्हें शरीर से तो आपका दाँत भी गीला

milegaa. Mere is nanhen shareer se to aapakaa daant bhee geelaa

नहीं होगा। यदि आप मुझे छोड़ दें तो क्या मालूम मैं

naheen hogaa. Yadi aap mujhai chhorha den to kyaa maaloom main

आपके कुछ काम आ सकूँ।
ये सुनकर शेर ने हँस कर कहा
aapke kuchh kaam aa sakuun.” Yeh sunkar sher ne hans kar kahaa,

ओ मरियल चूहे, पिद्दी सा तो है तू; तू मेरे क्या काम
              “o    mariyal   chuuhe, piddee saa to hai tuu; tuu mere kyaa kaam 
आएगा। मैं जंगल का राजा हूँ, सारी दुनिया मुझ से डरती

aayegaa. main jangal kaa raajaa huun, saaree duniyaa mujh se daratee

है। फिर भी तूने ुझ से प्राणदान माँगे हैं इस लिये मैं तुझे

hai.phir bhee toone mujhse praan(n)daan maange hain is liye main tujhe

छोड़ता हूँ। अब तू आज़ाद है। जा भाग यहाँ से।
ऐसा
chorhataa huun. Ab tuu aazaad hai. Jaa bhaaga yahaan se.” Aisaa

कहकर शेर ने चूहे को छोड़ दिया।

 
kahakar sher ne  chuuhe ko chhorha diyaa.

कुछ दिन बाद शहर से सरकस के कुछ लोग जंगल में शेर
             Kuchh din baad shahar se sarkas ke kuchh loga  jangal mein sher
पकड़ने आये। उन्होंने चारों ओर जाल फैला दिया और पास

pakarhane aaye. Unhonne chaaron or jaal phailaa diyaa aur paas

ही एक ज़िंदा बकरा बाँध दिया। शाम का समय था, बकरे

hee ek zindaa bakaraa baandh diyaa. Shaam kaa samaya thaa, bakare

की आवाज़ सुन कर शेर उसे खाने आया और जाल में फँस

kee aavaaza suna kar sher use khaane aayaa aur jaal mein phans

गया। बहुत हाथ पैर मारे, पूरा ज़ोर लगाया मगर उस

gayaa. bahut haatha pair maare, puuraa zor lagaayaa magar us

मज़बूत जाल से निकल नहीं पाया। जाल बना भी कुछ ऐसे

mazabuut jaal se nikala naheen paayaa. jaal banaa bhee kuchh aise

था कि जैसे जैसे शेर ज़ोर लगाता था जाल उतना ही सख्त

thaa ki jaise jaise sher zor lagataa thaa jaal utanaa hee sakht

होता जाता था। आखिर शेर ने हाथ पैर छोड़ दिये और

hotaa jaataa thaa. aakhir sher ne haatha pair chhorha diye aur

निढाल हो कर अपने स्वतंत्रता के दिन याद करने लगा।

nidhaal ho kar apane svatantrataa ke din yaad karane lagaa.

पास ही चूहा बैठा ये सब देख रहा था। जब रात अन्धेरी हो             paas hee chuuhaa baithaa ye sab dekh rahaa thaa. jab raat andheree ho
गई तो वो चुपके से शेर के पास आकर बोला,
वनराज,
gaee to vo chupake se sher ke paas aakr bolaa, “vanaraaj,

आप बिल्कुल चिंता न करें, बस चुपचाप ऐसे ही पड़े रहें

aap bilkula chintaa naa karen,basa chupchaap aise hee parhe rahen

और मुझे अपना काम करने दें।
इतना कहकर चूहे ने
. aur mujhe apanaa kaam karane den.” Itanaa kahakar chuuhe

अपने छोटे छोटे मगर तेज़ दातों से जाल को काटना शुरू

ne apane chhote chhote magar tez daanton se jaala ko kaatanaa shuruu

कर दिया। जाल बहुत मज़बूत था मगर चूहे ने भी धीरे

kar diyaa. jaal bahut mazabuut thaa magar chuuhe ne bhee dheere

धीरे उसको काट ही दिया। जाल कट जाने के बाद चूहा

dheere usako kaat hee diyaa. Jaal kat jaane ke baad chuuhaa

बोला
हे जंगल के राजा, अब आप थोड़ा ज़ोर लगायें ताकि
bolaa, “hai jangal ke raajaa, ab aap thorhaa zor lagaayen taaki

जाल से आप बाहर आ सकें
चूहे के कहने पर शेर ने पूरा
jaal se aap baahar aa saken.” chuuhe ke kahane par sher ne puuraa

ज़ोर लगाया, जाल टूट गया और शेर आज़ाद हो गया।

zor lagaayaa, jaal tuuta gayaa aur sher aazaad ho gayaa.

सुबह जब सरकस वाले शेर को ले जाने आये तो उसे वहाँ

Subaha jaba  circus vaale sher ko lene aaye to use vahaan

न पाकर चक्कर में पड़ गये। पास ही पेड़ पर बैठा चूहा

naa paakar chakkar mein parha gaye. Paas hee pairha par baithaa chuuhaa

मुस्कुरा कर ये सब तमाशा देख रहा था। उधर शेर भी

muskuraa kar ye saba tamaashaa dekh rahaa thaa. Udhar sher bhee

अपनी खोई हुई आज़ादी पाकर चूहे को सच्चे दिल से

apanee khoee huee aazaadee paakar chuuhe ko sachche dil se

धन्यवाद दे रहा था।
dhanyavaad de rahaa thaa.

Difficult Words Meaning Difficult Words Meaning Difficult Words Meaning
Aazaadi Freedom Jaal Net Piddi Very tiny
Badana Body Kaat Cut Praandaan Boon of life
Chakkar Puzzled Khush Happy Sharan refuge
Chuha Mouse Muskuraaya Smiled Sher Lion
Daur-dhoom Run-around Neend Sleep Tuu You
Gahri Deep Panja Paw    
Girgirhane Beg/ Grovel Phailaya Spread    


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें