अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
 छोटा नहीं है कोई
ChhoTaa nahii.n hai koii
विजय कुमार विक्रान्त

vijaya kumaar vikraant
विजय विक्रान्त

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर श्री तुलसीराम को
        Ilaahaabaad vishvavidyaalay ke gaNit ke professor shrii Tulasiiraam ko
एक बार किसी काम से गंगा पार जाना था। वो प्रयाग पहुँचे और बुलाकी
ek baar kisii kaam se Ga.ngaa paar jaanaa thaa. Vo Pryaag pahu.Nche aur bulaakii
 मल्लाह से बात करके उसकी नाव में बैठ गए। जैसे जैसे नाव चली तो
mallaah se baat karake usakii naav me.n baiTh gae. Jaise jaise naav chalii to
 प्रोफ़ेसर साहब ने बुलाकी से पूछा कि भाई कितना पढ़े हो। बुलाकी के
 professor saahab ne bulaakii se puuchhaa ki bhaaii kitanaa pa.Dhe ho. Bulaakee ke
कहने पर कि वो बिल्कुल नहीं पढ़ा है, तुलसीराम जी बोले कि भाई तुम
kahane par ki bo bilkul nahii.n pa.Dhaa hai, Tulasiiraam jii bole ki bhaaii tum
ने तो अपनी चौथाई ज़िन्दगी यूँ ही गँवा दी। मुझे देखो कि मैं कितना
 ne to apanii chauthaaii zi.ndagii yuu.N hii g.nvaa dii. Mujhe dekho ki mai.n kitanaa
 पढ़ा लिखा हूँ।
 pa.Dhaa likhaa huu.N.

थोड़ा आगे चलकर प्रोफ़ेसर साहब ने फिर पूछा कि भाई तुमको
       Tho.Daa aage chalakar professor saahab ne phir puuchhaa ki bhaaii tumako
नाव चलाने से कितनी आमदनी हो जाती है। मल्लाह के कहने पर कि बस
naav chalaane se kitanii aamadanii ho jaatii hai. Mallaah ke kahane par ki bas
 घर का खर्चा निकल जाता है तो तुलसीराम जी अकड़ कर बोले कि
ghar kaa kharchaa nikal jaataa hai to Tulasiiraam jii aka.D kar bole ki
बुलाकी भईया, तुम ने तो अपनी आधी ज़िन्दगी यों ही गरीबी में गँवा दी।
bulaakee bha_iiyaa, tum ne to apanii aadhii zindagii yo.n hii ariibii me.n g.Nvaa dii.
मुझे देखो कि मैं कितना पैसा कमाता हूँ।
Mujhe dekho ki mai.n kitanaa paisaa kamaataa huu.N

बुलाकी एक भोला भाला निष्कपट इंसान था। प्रोफ़ेसर की बातें
       Bulaakii ek bholaa bhaalaa nishkapaT i.nsaan thaa. Professoar kii baate.n
उसको बुरी तो बहुत लगीं मगर उसने उसका कोई ज़वाब नहीं दिया।
Us ko burii to bahut lagii.n magar usane usakaa koii jabaab nahii.n diyaa.

जैसे ही नाव मंझदार में पहुँची, उसे एकाएक तूफ़ान ने घेर लिया
       Jaise hii naav m.njhadaar me.n pahu.Nchii, use ekaaek tuufaan ne gher liyaa
और वो बहुत ज़ोर से हिचकोले खाने लगी। ऐसा लग रहा था कि अब डूबी
aur vo bahut zor se hichkole khaane lagii. Aisaa lag rahaa thaa ki ab Duubii
और अब डूबी। तुलसीराम जी बहुत घबरा गए और मल्लाह से कुछ करने
aur ab Duubii. Tulasiiraam jii bahut ghabaraa gae aur mallaah se kuchh karane
को कहा। मल्लाह ने उनकी यह हालत देखकर पूछा कि क्या उनको
ko kahaa. Mallaah ne unakii yah haalat dekhakar puuchhaa ki kyaa unako
तैरना आता है। प्रोफ़ेसर साहब के कहने पर कि उनको तैरना नहीं आता
tairanaa aataa hai. Professor saahab ke kahane par ki unako tairnaa nahii.n aataa
तो  बुलाकी बोला "प्रोफ़ेसर साहिब अनपढ़ और गरीब होने के कारण मैं ने
to Bulaakii bolaa, "professor saahib anapa.Dh aur gariib hone ke kaaraN mai.n ne
तो अपनी आधी ज़िन्दगी यों ही गँवा दी, मगर तैरना न आने पर तो अब
to apanii aadhii zindagii yo.n hii g.Nvaa dii, magar tairanaa n aane par to ab
आपकी पूरी जान ही जा रही है। "
aapakii puurii jaan hii jaan hii jaa rahii hai."  

प्रोफ़ेसर तुलसीराम को अपने घमण्ड और अहंकार पर बहुत
        Profesar Tulasiiraam ko apane ghamaND aur ah.nkaar par bahut
पश्चाताप हुआ और उन्होंने बुलाकी के पैर पकड़ लिए और कहा कि मेरे से 
pashchaataap huaa aur unho.nne Bulaakii ke pair paka.D lie aur kahaa ki mere se
बहुत बड़ी ग़लती हो गई है और मुझे माफ़ कर दो।
bahut ba.Dii Galatii ho gaii hai aur mujhe maaf kar do.

किसी को छोटा मत कहो, छोटा नहीं है कोए
Kisi ko chhoTaa mat kaho, chhoTaa nahii.n hai koii
समय समय की बात है, छोटा बड़ा भी होए
Samay samay kii baat hai, chhoTaa ba.Daa bhii hoe

Difficult
Words
Meaning Difficult
Words
Meaning Difficult
Words
Meaning
Aadhii  half Aamadanii    earnings ah.nkaar egocentric
Anapa.Dh uneducated Ba.Daa big Baat  thing
Bholaa-bhalaa innocent Bilkul at all Bulaki Name of the person who was rowing the boat
chauthaaii onef ourth Chhota  little/unworthy Duubii sink
g.Nvaa  wasted Ga.ngaa Paar Across Ga.ngaa  river Galatii  mistake

GaNit

Maths Gariibii  poverty Ghabaraa  worried
ghamaND arrogance gher

surrounded/encircled

Haalat condition
  hichkole rocking  Jaan  life Jaise   As
Kamaataa earn Kisi anybody Kitna how much
Koii    nobody m.njhadaar in the middle of the stream Maaf forgive
Mallah the person who rows the boat

  Mat

don’t Naav Boat
NishkapaT clear hearted paDhaa-likhaa    educated PaDhe educated
Pahunche arrived Phir again Prayaag  Old name of Ilahabaad
Puuchhaa asked Puurii full/whole Samay   time
Tairanaa swimming Tho.Daa  little bit Tulsiiraam Name of the professor
tuufaan  storm Vishvavidyalaya

University

zindagii  life



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें