अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
चतुर राज ज्योतिषी
Chatur Raaj Jyotishee

विजय विक्रान्त
Vijay Vikrant
 

महाराजा करमवीर सिंह के दरबार में राज ज्योतिषी पण्डित
  
 Mahaarajaa         Karamveer           Singh    ke      darbaar  mein    raaj        jyotishhee      pandit
 
श्याम मुरारी की बहुत चर्चा थी और बड़ा मान था। राजा कोई भी
 Shyam  Muraaree  kee      bahhut    charchaa thee aur       barha    maan       thaa.  Raajaa     koi   bhee  
 काम ज्योतिषी की सलाह के बिना नहीं करता था। समय बीतता
 kaam    jyotishhee         kee     salaah        ke     binaa    naheen  karataa       thaa.   Samay    beetataa
 गया और राजा को अपनी सीमाओं को बढ़ाने की इच्छा दिन प्रति
 gayaa     aur   raajaa        ko     apanee        seemaaon     ko     badhaane    kee   ichchhaa    din   prati 
 दिन प्रबल होती चली गई।
 din        prabal      hotee   chalee   gaee.

एक दिन राजा ने ज्योतिषी को बुलाकर अपने दिल की बात
                 Ek   din    raajaa    ne        jyotishhee      ko        bulaakar        apane     dil      kee      baat
कही और पूछा कि क्या साथ वाले राजा पर आक्रमण करना ठीक
kahee    aur     poochhaa ki       kyaa     saath      vaale    raajaa      par   aakraman(n)      kar naa   thheek
 रहेगा और यदि ठीक है तो उसका राज्य हड़प करने का कौन सा
 rahegaa    aur     yadi      thheek    hai     to   usakaa    raajy        harhap      karane      kaa    kaun    saa
 शुभ समय है। यह जानते हुए भी कि पड़ोसी राजा बहुत बलवान
 shubh    samay    hai.      Yah   jaanate      hue     bhee    ki      parhosee    raajaa      bahut      balvaan
 है, श्याम मुरारी ने बिना सोचे समझे सलाह दी कि हे राजन! आप
 hai, Shyam    Muraaree   ne    binaa     soche     samajhe          salaah    dee   ki     hai       raajan !       aap
 जल्दी से जल्दी आक्रमण कर डालें। आप इस संग्राम में अवश्य
 jaldee         se   jaldee        aakramann      kar      daalen.     Aap           is    sngraam  mein      avashy
 सफल होंगे। ज्योतिषी के कहने पर करमवीर सिंह ने धावा बोल
saphal        honge.     Jyotishhee          ke    kahane    par    Karamveer    Singh      ne     dhhaavaa   bol
 दिया। हुआ वही जिसका डर था। राजा को मुँह की खानी पड़ी।
diyaa.     Huaa    vahee  jiskaa       dar  thaa.  Raajaa   ko  munh  kee khaane parhee.
 बहुत पिटाई हुई और जैसे तैसे करके अपनी जान बचा कर भागा।
Bahut    pitaaee  huee  aur    jaise    taise   karke    apanee    jaan    bachaa kar bhaagaa.

महल में आकर राजा ने सबसे पहले राज ज्योतिषी को
             Mahal mein  aakar     raajaa  ne  sabse     pahale   raaj   jyotishhee     ko
 बुलाया। ज्योतिषी को तो सब बात का पता चल गया था और उसे
bulaayaa.   Jyotishhee    ko     to    sab    baat  kaa   pataa  chal    gayaa  thaa    aur  use
 ये भी मालूम था कि उसको क्यों बुलाया जा रहा है। फिर भी वो
 ye bhee maaloom thaa   ki    usako   kyon  bulaayaa   jaa   rahaa  hai.   Phir   bhee vo
 चेहरे पर मुस्कान लेकर दरबार में पहुँचा।
chehare par  muskaan     lekar    darbaar  mein  pahunchaa.

आसन ग्रहण करने के बाद राजा ने ज्योतिषी से पूछा कि
                Aasan   grahan(n)   karane     ke   baathe   raajaa     ne     jyotishhee       se    poochhaa ki
 महाराज आप सब का भविष्य बताते हैं। क्या आपको अपना
 mahaaraaj        aap      sab      kaa    bhavishhya   bataate  hain.       Kyaa     aapako       apanaa
 भविष्य भी पता है? राजा के प्रश्न के पीछे जो रहस्य था उसे
bhavishhya   bhee  pataa    hai?   Raajaa   ke    prashn   ke   peechhe   jo     rahasy     thaa    use
 जानने में पण्डित को ज़रा देर नहीं लगी। उसने हाथ जोड़कर
jaanane     mein   pandit          ko     zaraa    ther    naheen   lagee.       Usane      haath      jorhakar
 विनम्रता से कहा कि महाराज मैं ने सब नक्षत्रों का अध्ययन
vinamrataa       se     kahaa  ki         mahaaraaj    main   ne   sab    nakshatron    kaa    adhhyayan
 किया है और मुझे अपने और आपके भविष्य के बारे में सब कुछ
kiyaa      hai     aur      mujhe     apane     aur        aapake      bhavishhya     ke   baare    mein  saba  kuchh
 पता है। राजा के यह पूछने पर कि आपकी मृत्यु कब होगी,
pataa     hai.   Raajaa  ke      yeh   poochhane par       ki      aapakee       mrityu      kab     hogee,
 पंडितजी ने बड़ी नम्रता से कहा कि महाराज कुछ ग्रहों का चक्कर
panditjee          ne    barhee  namrataa   se   kahaa       ki         mahaaraaj  kuchh    grahon kaa chakkar
 ऐसा है कि मेरे और आपके नक्षत्रों का चोली दामन का साथ है।
aisaa      hai  ki       mere    aur     aapke      nakshatron     kaa    cholee    thaaman     kaa    saath    hai.
 गणित के अनुसार मेरी मृत्यु आपकी मृत्यु से ठीक दो घण्टे पहले
Gan(n)it        ke   anusaar        meree     mrityu      aapakee    mrityu      se    thheek    do   ghannthe  pahale
 होगी। कहने का मतलब ये है कि मेरे मरने के ठीक दो घण्टे बाद
hogee.    Kahane       kaa    matalab    ye    hai       ki      mere  marane    ke    thheek   do    ghannthe baad
 आपकी मृत्यु हो जाएगी।
aapakee      mrityu       ho    jaaegee.

राज ज्योतिषी का जवाब सुनकर राजा भी चक्कर में आ गया
              Raaj     jyotishhee      kaa     jabaab        sunkar       raajaa     bhee   chakkar    mein    aa    gayaa
 और जो उसने मन में सोचा था उस बात को वहीं पी गया। इधर
aur       jo      usane        mun     mein   sochaa   thaa   us        baat      ko    vaheen  pee  gayaa.     Idhhar
 राज ज्योतिषी ने भी सोचा कि एक बार तो जैसे तैसे जान बच
raaj          jyotishhee     ne     bhee  sochaa     ki      ek        baar    to      jaise      taise     jaan      bach
 गई मगर आगे का कुछ पता नहीं है। कुछ दिन रहने के पश्चात
gaee     magar    aage      kaa    kuchh    pataa    naheen hai.      kuchh    din     rahane    ke    pashchaat
 उसने महाराज से आज्ञा ली और वन की ओर प्रस्थान कर दिया।
usane        mahaaraaj      se     aagyaa       lee     aur     van     kee     ore       prasthan         kar       diya.



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें