अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.05.2018


डेंगू

काट रहे हैं आजकल
मच्छर तरह तरह के
पल रहे हैं बेशुमार जो
हमारी स्थूलता और गंदगी में

अहंकार, लोभ, ईर्ष्या, द्वेष ने
काटा है जिन जिन को
जीते जी मर गए वो
तड़प तड़प कर ज़िन्दगी में

चढ़े जब अंहकार का बुखार
चले तेज़ साँसों की रफ़्तार
द्वेष में हड्डियाँ अकड़ जाती हैं
घृणा की खट्टी उबकाई आती है

ईर्ष्या के दर्द में तड़पता है पेट
एकदम गिर जाता है रक्त में प्लेटलेट
होती नहीं तृप्त प्रेम की प्यास
लालच के फफोलों से आती बास

डेंगू से त्रस्त है आज समाज
सरल है बहुत इसका ईलाज
स्वच्छ रखें घर समाज हृदय शरीर
पीएँ खूब प्रेम से ईमानदारी का नीर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें