अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.01.2016


खुला नया बाज़ार यहाँ

खुला नया बाज़ार यहाँ सब बिकता है
कर लो तुम एतबार यहाँ सब बिकता है

जाति धर्म उन्माद की भीड़ जुटा करके
खोल लिया व्यापार यहाँ सब बिकता है

बदल गई हर रस्म वफ़ा के गीतों की
फेंको बस कलदार यहाँ सब बिकता है

दीन धरम ईमान जालसाज़ी गद्दारी
क्या लोगे सरकार यहाँ सब बिकता है

एक के बदले एक छूट में दूँगा मैं
एक कुर्सी की दरकार यहाँ सब बिकता है

सुरा - सुन्दरी नोट की गड्डी दिखलाओ
लो दिल्ली दरबार यहाँ सब बिकता है

अगर चाहिये लोकतंत्र की लाश तुम्हें
सस्ता दूँगा यार यहाँ सब बिकता है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें