अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

कभी रंजो अलम के गीत मैं गाया नहीं करता
तेजेन्द्र शर्मा


कभी रंजो अलम के गीत मैं गाया नहीं करता
सब्र करता हूँ, अपने दिल को, तड़पाया नहीं करता 

बुरे देखूँ भले देखूँ, बुराई भी भलाई भी
किसी चक्कर में पड़ क़रके मैं चकराया नहीं करता 

मुझे मालूम है यह, चार दिन का मौज मेला है
न ख़ुद मैं तड़पा करता हूँ, औ तड़पाया नहीं करता 

मैं यह भी जानता हूँ, मुझको जन्नत मिल नहीं सकती
इसी से मैं कभी दोजख़ क़ो ठुकराया नहीं करता 

खुशामद चापलूसी की नहीं आदत रही अपनी
ग़लत बातें किसी को भी मैं, समझाया नहीं करता 

मुक़द्दर में लिखा जो है, मिलेगा देखना हमको
मुझे जो कुछ भी मिल जाए, मैं ठुकराया नहीं करता 

सुना है दूध की नदियाँ बहा करती हैं जन्नत में
मगर वो दूध इस दुनियाँ में काम आया नहीं करता 

मुझे जन्नत की बूढ़ी हूरों से यारो हैं क्या लेना
बाजारे हुस्न इस दुनियाँ में सजवाया नहीं करता 

नहीं अब नेमतों की आरज़ू बाकी रही कोई
हूँ गुरबत में पला मज़दूर, ललचाया नहीं करता 

घुटन महसूस करता हूँ, मैं जन्नत के तस्सवुर से
औ' दोजख़ क़े तस्सवुर से, मैं घबराया नहीं करता

उठा कर सर को चलता हूँ, भरोसा है मुझे खुद पर
झुकाता सर नहीं अपना, मैं शरमाया नहीं करता


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें