अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.02.2014


ज़िंदगी का आँचल

टूट जाती है
अकसर
सहानुभूति की सलाइयाँ
बुनते-बुनते
कठिनाइयों के धागे
खींझ जाती है
हाथों की बुनावट
बिखर जाता है
ज़िंदगी का
ताना-बाना
तभी कहीं से
हवा का मद्धम झोंका
हौले से
सहला जाता
मेरा माथा
टिका देता है
हथेलियाँ
गालों पर मेरी
झटक देती हूँ
तब मैं
अपनी परेशानियाँ
और बुनने में
तल्लीन हो जाती हूँ
टूटे हुए धागों से
ज़िंदगी के आँचल को
महीन बुनावट में...।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें