अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.19.2016


तुम नज़र भर ये

२१२२ २१२२ २१२
तुम नज़र भर ये, अजीयत देखना
हो सके, मैली-सियासत देखना

ये भरोसे की, राजनीति ख़ाक सी
लूट शामिल की, हिमाक़त देखना

दौर है कमा लो, ज़माना आप का
बमुश्किल हो फिर, जहानत देखना

लोग कायर थे, डरे रहते थे ख़ुद
जानते ना थे , अदालत देखना

तोहफ़े में 'लाख', तुमको बाँट दे
क़ौम की तुम ही, तबीयत देखना

अजीयत =यातना, जहानत = समझदारी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें