अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.23.2017


कोई सबूत न गवाही मिलती

२२१२ १२२२२२
कोई सबूत न गवाही मिलती
हक़ माँगते, तबाही मिलती

क्या है जिरह ज़माने वालो अब
किस बात शक़्ल में स्याही मिलती

सहमे दिखे अमन - ईमां वाले
घर मयकदे की सुराही मिलती

नाकामियाँ सिखा देती जीना
किस ख़ास हुनर वाहवाही मिलती


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें