अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.04.2016


कभी ख़ुद को ख़ुद से

घनाक्षरी/ गजल
कभी ख़ुद को ख़ुद से, रूबरू हो कर देखो
मिट्टी में बारिश की, खुश्बू हो कर देखो

रिश्ते टूटे-बिखरे, दिखते हैं आसपास
जोड़ने की नीयत हो, शुरू हो कर देखो

बंद कमरा, तल्ख़ी, घुटता हुआ सा दम
खुली हवा सर्द आरज़ू हो कर देखो

जो चल जाए गहरे, वो आसान तिलस्म
जग जो छा जाए सही, जादू हो कर देखो

कहाँ से कहाँ दुनिया, देखते-देखते चली
किसी कोने में खड़े हो, बाजू हो कर देखो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें