अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.20.2018


आज

सुबह खोल रही है,
अपना लिफ़ाफ़ा हौले से।

गली से निकल रहे हैं लोग,
वही कल के काम पर।

उड़ते हुए परिंदों की चोंचों में,
वही तिनके हैं कल से।

फूलों ने पंखुड़ी बिछाई है आसमां तलक़
रोज़ की तरह।

मुट्ठी में जितने हो सकें
समेट लो लम्हें आज,
कि ज़िन्दगी शांत खड़ी है देहलीज़ पे
अपनी बाहें फैलाये,
बस तुम्हारे लिए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें