अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.27.2018


मुटुरी मौसी

चढ़ी बाँस पर
पतई तोड़े
बछिया खातिर
मुटुरी मौसी
 
झुककर पकड़ी
ऊँची फुनगी
जीती केवल   
अपनी जिनिगी
डाल मरोड़ी
अपने दम से
पतई तोड़ी
आते क्रम से
स्नेह लुटाती
मुटुरी मौसी
 
श्रम की पढ़ती
कथा कहानी
बोली अक्सर
मीठी बानी
बुरे कर्म को
डाँट रही है
खुशियाली ही
बाँट रही है
घर की नानी
मुटुरी मौसी
 
चना-चबेना
फाँका-फाँका
चावल घर में
कभी न झाँका
गिरता आँसू
चाट रही है
घर की खाई
पाट रही है  
अंजर-पंजर  
मुटुरी मौसी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें