अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.27.2018


घिर रही कोई घटा फिर

खिल रहा नवगीत का शुभ
फिर नया संदर्भ कोई
 
घिर रही कोई घटा फिर
सतह पर अवतरणिका की
सज रही अनुसंधि कोई
शब्द की मणिकर्णिका की
हँस रहा मधुमास लेकर
फिर नया गंधर्व कोई
 
फिर किसी गंगाजली में
हो रहा है जल एकत्रित
साधना का अर्थ कोई
भावना का पल निमंत्रित
जुड़ रहा है आगमन का
फिर नया संबंध कोई
 
कशिश की हर आत्मा में
दर्द के अंकुर छिपे हैं
सत्य की अनुगूँज के स्वर
कल्पना के सुर छिपे हैं
लग रहा है मिल रहा है
मर्मरित अनुबंध कोई


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें