अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.03.2014


क्या लिखूँ .....

कुछ बात लिखूँ अल्फाज़ लिखूँ
या बहके से जज़्बात लिखूँ

तुमको अपना हमराज़ लिखूँ
या धुंधला सा एक ख़्वाब लिखूँ

बिन तेरे बरसी बरसात लिखूँ
या यादों की बारात लिखूँ

सदियों का वो साथ लिखूँ
या लब पे ठहरी हर बात लिखूँ

हर राह पे चलना साथ लिखूँ
या मिल के बिछड़ा वो साथ लिखूँ
क्या लिखूँ .......... 


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें