अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.16.2018


दर्द की किताब

एक रात अँधेरों से निकल कर
मेरे दर्द
बिस्तर की सिलवटों में उलझ गए
मैं उन्हें हौले हौले सुलझाती रही
खिड़की का चाँद बार बार
बादलों में छुपता और निकलता रहा
मैं उसकी आती जाती रोशनी में
अपने दर्दों को सहलाती रही
तारिकाओं की टिमटिमाती लड़ियों में
दर्द की आवाज़ में अपनी आवाज़ मिलाती रही
टूटते रिश्तों से बनी दरारों में
दर्द अपना छिपाती रही
मेरी बैचेनी असमान को छूकर
लौटती रही और हर बार
टूटी डाली सी चटकती रही
मैं दर्द में भीगी रातों को
सुबह का मतलब समझाती रही
मेरा हर दर्द लहरों की तरह
मुझ से निकल कर
मुझ तक लौटता रहा
और मैं रात भर दर्द की
लहरों में बहती रही
अचानक दर्द आग की
लपटों सा बढ़ता गया
और मैं उसकी लपटों में जलती रही
और धुएँ की क़लम से मेरे दर्द
रिस रिस कर काग़ज़ पर उतरते रहे
मैं हर पन्ने को
दर्द की टीस से भरती रही
और उस रात मैं
अपने दर्दों की किताब लिखती रही
डूब पर पड़ी ओस की बूँदों के इंतज़ार में
दर्द को सीने में जकड़े रही
और तकिये की भीगी रुई से
दर्द में भीगे आँसुओं का हिसाब माँगती रही।|


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें