अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.28.2015


काम ख़त्म कर लूँ सभी

काम ख़त्म कर लूँ सभी, मैं शाम से पहले
जाने मरहूम लग जाए कब, मेरे नाम से पहले

बिन सोचे बिन समझे करते हो एक दिन पछताओगे
अंजाम भी सोचकर रखो तुम. अपने काम से पहले

अभी तो शुरू हुई ज़िंदगी जाने का वक़्त भी आ गया
माँग लूँ दो चार दिन और, मैं राम से पहले

बच्चे हैं छोटे मेरे करने हैं अधूरे काम भी पूरे
जुटा लूँ लकड़ियाँ थोड़ी, क्रिया कर्म के इंतज़ाम से पहले

कर्ज़ चढ़ा है तुझपे लोगों की मोहब्बत का "सपना"
चली जाऊंगी शुक्रिया तो कह लूँ मैं आवाम से पहले


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें