अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.29.2017


ये कौन सी उमस है

ये पंखे सर के ऊपर नाचते हैं
एक लय के साथ, तन्मय होकर
ठंडी हवा फैलाते हुए
ये क्या कुछ कहना चाहते हैं?

नीरव शान्ति के बीच उसकी आवाज़
मानो कल-कल करती है
गंगा की धारा के समान

एक बटन और उसका लगातार घूमना
बिना किसी सोच के
जैसे एक सपेरा बजा रहा हो बीन
और मदहोश होकर नाच रहा साँप

पंखा तो गर्मी से नजात दिला रहा है
पर ये कौन सी उमस है
जो घर कर गयी है मन में,

वातावरण में
कुछ ऐसा है जिसने,
इस सूक्ष्म शरीर में
मचा रखी है उथल पुथल
ये कहाँ की गर्मी है
की नस फटने को व्याकुल है
कूलर चलाओ तब ये गर्मी भागेगी
पर उन जगहों का क्या
जहाँ कूलर भी प्रणाम कर दे
पसीने से लथपथ भाग रहे लोग
एक दूसरे को पीछे छोड़ते हुए
बादलों ने जमा रखा है डेरा
एक जगह पे...........

सब त्राहिमान पुकार रहे
और बादल जैसे कह रहा हो
पंखा चलाओ, पंखा बन जाओ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें