अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.02.2018


वेदना का पक्ष

 स्त्री की उत्पीड़न की
आवाज़ टकराती पहाड़ों पर
और आवाज़ लौट आती
साँझ की तरह
नव कोंपले वसंत मूक बना
कोयल फिजूल मीठा राग अलापे
ढलता सूरज मुँह छुपाता
उत्पीड़न कौन रोके
मौन हुए बादल
चुप सी हवाएँ
नदियों व् मेड़ों के पत्थर
हुए मौन
जैसे साँप सूँघ गया
झड़ी पत्तियाँ मानो रो रहीं
पहाड़ और जंगल कटते गए
विकास की राह बदली
किन्तु उत्पीड़न की आवाज़ें
कम नहीं हुईं स्त्री के पक्ष में
वासन्तिक छटा में टेसू को
मानों आ रहा हो ग़ुस्सा
वो सुर्ख लाल आँखें दिखा
उत्पीड़न के उन्मूलन हेतू
रख रहा हो दुनिया के समक्ष
वेदना का पक्ष


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें